ब्लॉग देखने के लिए हार्दिक धन्यवाद। यदि आपको मेरा ब्लॉग अच्छा लगा है तो आप मेरे समर्थक (Follower) बनकर मुझसे जुड़ें। ई-मेल sudhir.bhel@gmail.com मोबाइल 09451169407, 08953165089

बुधवार, 17 मार्च 2010

दाँत का डॉक्टर

पिता ने
पुत्र का कान ऐंठा
और कहा
सुनो बेटा
मन लगाकर पढ़ोगे
तो
निश्चित ही
मेरी तरह डॉक्टर बनोगे
पुत्र बोला
ठीक है
लेकिन
यह तो बताओ
मैं कौन-सा रास्ता चुनुं ?
दिल का डॉक्टर बनूं
या
दाँत का डॉक्टर बनूं
देते हुए सलाह
अनुभवी पिता ने कहा
बेटा
एक बात का ध्यान रखना
केवल
दाँत का डॉक्टर ही बनना
जिज्ञासावश
पुत्र फिर बोला
दाँत का ही क्यों ?
दिल का क्यों नहीं ?
पिता ने कहा
बेटा
ऐसी कोई बात नहीं है
दरअसल ऐसा होता है
दाँत के केस में
कोई रिस्क नहीं होता है
क्योंकि
दाँत तो बत्तीस होते हैं
लेकिन
दिल एक ही होता है ।

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें