ब्लॉग देखने के लिए हार्दिक धन्यवाद। यदि आपको मेरा ब्लॉग अच्छा लगा है तो आप मेरे समर्थक (Follower) बनकर मुझसे जुड़ें। ई-मेल sudhir.bhel@gmail.com मोबाइल 09451169407, 08953165089

शुक्रवार, 22 फ़रवरी 2013

मैं और तुम

0 टिप्पणियाँ

मैं और तुम
अलग-अलग बिंदुओं से
शुरू होकर
रेल की पटरी की तरह
समानांतर चल रहे हैं
लेकिन
ऐसा क्यों
और
कब तक
क्यों न हम
एक-दूसरे पर लम्ब डालकर
सदा के लिए गले मिल जाएं
और
एक हो जाएं।

हिन्दी में उल्लेखनीय कार्य के लिए सम्मानित

0 टिप्पणियाँ

राष्ट्रीय पर्व 26 जनवरी 2013 को हिन्दी चलवैजन्ती पुरस्कार एवं विशेष रूप से "हिन्दी में उल्लेखनीय कार्य" के लिए बी एच ई एल के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर श्री ए. के. दवे द्वारा पुरस्कार प्राप्त करते हुए दाएं से प्रथम स्थान पर कवि सुधीर गुप्ता "चक्र"

"उम्मीदें क्यों?" विश्व पुस्तक मेला में उपलब्ध

0 टिप्पणियाँ
 
मेरा पुरस्कृत काव्य संग्रह "उम्मीदें क्यों?" विश्व पुस्तक मेला में उपलब्ध

कवि सम्मेलन में काव्य पाठ

0 टिप्पणियाँ



4 जनवरी 2013 को भेल दिवस पर आयोजित कवि सम्मेलन में काव्य पाठ करते हुए।

ग़ुणता वृत्त का राष्ट्रीय "प्रतिष्ठित पुरस्कार" प्राप्त

0 टिप्पणियाँ

17 से 20 दिसम्बर 2012 को कानपुर में आयोजित गुणता वृत्त के राष्ट्रीय सम्मेलन में "प्रतिष्ठित पुरस्कार" प्राप्त करते हुए बाएं से तीसरे स्थान पर कवि सुधीर गुप्ता "चक्र"

"हिन्दी साहित्य सेवा" के लिए सम्मानित

0 टिप्पणियाँ

16 दिसम्बर 2012 को झाँसी महोत्सव के ऐतिहासिक कार्यक्रम में "हिन्दी साहित्य सेवा" के लिए श्री गौरव दयाल जिलाधिकारी, झाँसी महानगर द्वारा सम्मानित किया गया।

प्रथम पुरस्कार

0 टिप्पणियाँ


गुणता माह नवम्बर 2012 में ध्येय वाक्य के लिए भेल, झाँसी के कार्यपालक निदेशक श्री ए. के. दवे द्वारा "प्रथम पुरस्कार" प्रदान किया गया।