ब्लॉग देखने के लिए हार्दिक धन्यवाद। यदि आपको मेरा ब्लॉग अच्छा लगा है तो आप मेरे समर्थक (Follower) बनकर मुझसे जुड़ें। ई-मेल sudhir.bhel@gmail.com मोबाइल 09451169407, 08953165089

बुधवार, 24 फ़रवरी 2016

खिचड़ी

0 टिप्पणियाँ
कंकड़ बीनने के बाद
बनी हुई खिचड़ी
तुम
बड़े चाव से खाते हो
क्या कभी सोचा है
औरत ने
खिचड़ी के साथ-साथ
तुम्हारी जिंदगी के भी
कंकड़ बीन लिये हैं।


आसन

0 टिप्पणियाँ
माँ के कंधे पर
अपना चेहरा रखकर
मिट जाती है मेरी
मीलों लम्बी थकान
कोई योगाचार्य नहीं समझ सकता
कितना सुकुन मिलता है
मुझे इस आसन से।