ब्लॉग देखने के लिए हार्दिक धन्यवाद। यदि आपको मेरा ब्लॉग अच्छा लगा है तो आप मेरे समर्थक (Follower) बनकर मुझसे जुड़ें। ई-मेल sudhir.bhel@gmail.com मोबाइल 09451169407, 08953165089

शुक्रवार, 20 अप्रैल 2012

उम्मीदें क्यों?

0 टिप्पणियाँ


उम्मीदें क्यों ? 

तमाम उम्मीदों की सार्थकता को सिद्ध करने वाला काव्य संग्रह 


ऑनलाइन किताब खरीदने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें-





अरे! हम तो फिसल गए

0 टिप्पणियाँ


अरे! हम तो फिसल गए


   व्यंग्यात्मक चेतावनी वाला 
विश्व का एकमात्र
जबरदस्त हास्य-व्यंग्य से भरपूर अनूठा काव्य संग्रह