ब्लॉग देखने के लिए हार्दिक धन्यवाद। यदि आपको मेरा ब्लॉग अच्छा लगा है तो आप मेरे समर्थक (Follower) बनकर मुझसे जुड़ें। ई-मेल sudhir.bhel@gmail.com मोबाइल 09451169407, 08953165089

बुधवार, 26 अप्रैल 2017

महान विचार

       आज अशोक बहुत खुश था क्योंकि बहुत दिनों बाद वह माँ और पत्नी के साथ चाचा से मिलने कानपुर जा रहा था। लगभग आधा रास्ता तय करने के बाद सामने से आते बेकाबू ट्रक से उसकी गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो गयी। वह तो सकुशल बच गया लेकिन माँ और पत्नी को अत्यधिक रक्त बहने के कारण पास के ही चिकित्सालय में प्राथमिक उपचार के लिए ले जाया गया जहाँ डॉक्टर ने अशोक से दोनों के लिए एक-एक बोतल खून की व्यवस्था करने को कहा। अशोक तुरंत बोला- डॉक्टर साहब मेरा ब्लड ग्रुप माँ और पत्नी के ब्लड ग्रुप से मेच करता है इसलिए आप मेरा दो बोतल खून ले लीजिए। डॉक्टर ने दुर्घटना के कारण भयभीत अशोक से कहा तुम्हारी हालत देखकर हम तुम्हारा एक बोतल से अधिक खून नहीं ले सकते इसलिए यह बताओ कि पहले किसकी जान बचाएं।
 
            बिना तनाव के अशोक ने कहा कि डॉक्टर साहब इंसान को जीवन में मार्गदर्शन के लिए माँ और दुःखों को बांटने के लिए पत्नी की जरूरत होती है इसलिए मेरे लिए दोनों जरूरी हैं आप मेरा दो बोतल ही खून लीजिए।

            एक माँ अपने पुत्र और एक पत्नी अपने पति के महान विचार जानकर हिम्मत से भर उठीं और बिना खून चढ़े ही डॉक्टर से कहा जिस माँ का ऐसा बेटा और जिस पत्नी का ऐसा पति हो उसे खून की जरूरत नहीं है कहते हुए छलछलाती हुयी आँखों से माँ और पत्नी दोनों अशोक का हाथ पकड़कर बाहर आ गयीं।  

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें