ब्लॉग देखने के लिए हार्दिक धन्यवाद। यदि आपको मेरा ब्लॉग अच्छा लगा है तो आप मेरे समर्थक (Follower) बनकर मुझसे जुड़ें। ई-मेल sudhir.bhel@gmail.com मोबाइल 09451169407, 08953165089

सोमवार, 22 मार्च 2010

तुम

तुम
प्रेमचन्द का
वह उपन्यास हो
जिसे
लोग सहेज कर रखना चाहते हैं
और
मैं वह साप्ताहिक अखबार हूँ
जिसे, लोग
सात दिन रखना तो दूर
पढ़ने से भी कतराते हैं।

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें