ब्लॉग देखने के लिए हार्दिक धन्यवाद। यदि आपको मेरा ब्लॉग अच्छा लगा है तो आप मेरे समर्थक (Follower) बनकर मुझसे जुड़ें। ई-मेल sudhir.bhel@gmail.com मोबाइल 09451169407, 08953165089

शुक्रवार, 22 फ़रवरी 2013

मैं और तुम


मैं और तुम
अलग-अलग बिंदुओं से
शुरू होकर
रेल की पटरी की तरह
समानांतर चल रहे हैं
लेकिन
ऐसा क्यों
और
कब तक
क्यों न हम
एक-दूसरे पर लम्ब डालकर
सदा के लिए गले मिल जाएं
और
एक हो जाएं।

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें