ब्लॉग देखने के लिए हार्दिक धन्यवाद। यदि आपको मेरा ब्लॉग अच्छा लगा है तो आप मेरे समर्थक (Follower) बनकर मुझसे जुड़ें। ई-मेल sudhir.bhel@gmail.com मोबाइल 09451169407, 08953165089

मंगलवार, 18 सितंबर 2012

दूसरों के लिए भी जीकर देखो


एक छोटी कील को
भारी हथौडे से ठोककर
क्या साबित करना चाहते हो तुम?
शायद
अपनी ताकत
लेकिन
वहम् है तुम्हारा
क्योंकि
जब तक कील सीधी है
ठोक सकते हो
लेकिन
मुड‌ गई तो
क्या कर लोगो
कुछ नहीं
बस!
दीवार की मजबूती को कोसोगे
हथौडा पटकोगे
और
कील फेंक दोगे

ये क्या 
कील नहीं ठोक पाए तो
कैलेंडर फाड़कर फेंक दिया
दरवाजे की चटकनी से भी तो
लटका सकते थे
या फिर
चिपका सकते थे
किसी दीवार पर 

तुम्हारी खीझ ने
कमजोर साबित कर दिया है तुम्हें
दाँतों से दबे कमजोर होंठ
तुम्हारे चेहरे की सलवटें
और
मानसिक तनाव भी 
अब नहीं जोड़ सकते
कागज के टुकडों को
एक निहत्थी कील के प्रति
स्वीकारना ही होगी तुम्हें
अपनी हिटलरशाही की हार

टेबिल पर रखे कागज को
पेपरवेट से दबाते समय
तुम्हारे चेहरे की प्रतिक्रिया
और
कसी हुई बत्तीसी
साफ-साफ बता रही है
कि
तुम
पेपरवेट के नीचे रखे
कागज को दबाकर
स्वयं को संतुष्ट करने का
असफल प्रयास कर रहे हो
सोच रहे हो
मैंने अपनी ताकत
और
पेपरवेट के दबाव से
किसी को दबाकर
अपनी जीत हासिल की 
फिर भ्रमित हो गए हो तुम
क्योंकि
कागज तुमसे डरा नहीं है
बल्कि
तुम्हारी बेवकूफी पर हँस रहा है
और
कह रहा है
कितना दबाओगे मुझे
अपनी भाषा
और
अपना निर्णय
नहीं बदलूंगा मैं
तुम्हें बरखास्त होना ही पडे‌गा

सिगरेट सुलगा कर खुश हो
कि
मैंने किसी को जला दिया
और
जितना लम्बा कश लूंगा
उतनी ही तेज जलेगी सिगरेट
तुम
इस बार भी
अपनी नपुंसक सोच से पिछड़ गए हो
क्योंकि
तुम क्या जलाओगे उसे
जलना तो उसकी नियति है
न कि
तुम्हारी जीत का हिस्सा

अब अंधेरे पर तुम्हारा गुस्सा
भई वाह
कितना अंधेरा समेटोगे अपनी मुठ्ठी में
अंगुली की संधि से
बाहर आ ही जाएगा
तुम्हारे विचित्र प्रयोग
कमजोरियों को उजागर करते हैं
तुम्हारी
सहमी हुई संवेदनाएँ
और
औचित्यहीन अनुभव
बीच चौराहे पर खडें हैं
तुम
गेरूआ वस्त्र पहनकर
अपने संकीर्ण विचारों को बिना बदले
स्वामी  या
सन्यासी कहला सकते हो
तुम
अपने प्रति
चुम्बकीय आकर्षण भी
पैदा कर सकते हो
लेकिन
अपनी आत्मा का विश्वास नहीं जीत सकते

तुम्हारा
संभावित पागलपन
केवल तुम्हारी हार नहीं
बल्कि
नपुंसक हार है
ध्यान रखो
गलत काम
और
गलत शब्द
तुरंत प्रसूत होते हैं
इस तरह
कब तक बढाओगे शोषण की मात्रा
निकालना ही होगी तुम्हें
अपने स्वार्थों की शवयात्रा
इसलिए
भरी हुई मोरी (नाली) की तरह
रूके पानी के बाद
एकदम खुल जाओ
और
अचानक बहाव की तरह
अपनी हारी हुई
जीत को बहाकर
दूसरों की जीत में ही
अपनी जीत देखो
क्योंकि
महापुरूष कहते हैं
अपने लिए तो सभी जीते हैं
दूसरों के लिए भी जीकर देखो।

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें