ब्लॉग देखने के लिए हार्दिक धन्यवाद। यदि आपको मेरा ब्लॉग अच्छा लगा है तो आप मेरे समर्थक (Follower) बनकर मुझसे जुड़ें। ई-मेल sudhir.bhel@gmail.com मोबाइल 09451169407, 08953165089

मंगलवार, 22 फ़रवरी 2011

टाइम पास आशिक

आजकल
धनाड्य घरों की लड‌‌कियाँ भी
कार से जाने की जगह
बस स्टॉप से चढ़ना पसंद करती हैं

क्योंकि
प्रेमी ढूँढने के लिए
बस के इंतजार में
परिचय अपने आप हो जाता है
और
पेंग भी
अपने आप बढ़ जाती हैं
फिर
आँख की पुतली से
विभिन्न कोणों का प्रयोग करते हुए
ढूँढ ही लेती हैं
टाइम पास आशिक को
जिसने
नहीं भरा महीने भर से
मकान का किराया

हो सकता है
गरीब हो वह
लेकिन
प्रेमिका के साथ
हर रोज खर्च होता है
एक हरा नोट
और
उधार के स्टेटस की खातिर
वेटर को
टिप में देना पड़ता है
बचा हुआ दस का नोट
जिससे खरीदा जा सकता है
अँधेरे कमरे के लिए एक बल्ब

शाम को लौटते वक्त
कभी नहीं भूलती प्रेमिकाएं
गोलगप्पे या भेलपूरी खाना

पैसे देते वक्त
प्रेमी का बढ़ जाता है रक्तचाप
क्योंकि
खाली पर्स मुँह चिढ़ाकर
झूठ बुलवा ही देता है
सॉरी डार्लिंग
किसी ने पर्स मार दिया

तब
बुझा मन और
थकान भरा चेहरा लिए
घर पहुँचने पर
नहीं आती नींद
क्योंकि
हर रोज की तरह
कल सुबह फिर होगी बेइज्जती
और
किराया नहीं मिलने पर होगी
सामान जब्त करने की धमकी

आधी रात बीतने पर भी
नींद कोसों दूर है
फिर भी
नहीं है कोई दुःख
किसी बात का
क्योंकि
प्रेमिका केंद्रित हो चुकी है
आँखों की पुतलियों में।

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें